Kurukshetra: Debate on Rahul Gandhi's U turn on allegations against MP CM's son over Panama Papers

  • 🎬 Video
  • ℹ️ Description
Kurukshetra: Debate on Rahul Gandhi's U turn on allegations against MP CM's son over Panama Papers4
Kurukshetra: Debate on Rahul Gandhi's U turn on allegations against MP CM's son over Panama Papers.

Download — Kurukshetra: Debate on Rahul Gandhi's U turn on allegations against MP CM's son over Panama Papers

Download video
💬 Comments on the video
Author

जैसा नेता वैसा प्रवक्ता राजीव त्यागी। ये जिस डिबेट में जाता है उहाँ एंकर को बीजेपी का एजेंट जरूर बोलता है ये इस चटवे प्रवक्ता की उसपी है

Author — ashish ranjan

Author

कल मैंने 550 रु किलो की दर से घी लिया।
*
पिताजी बोले कि हमारे समय में तो इतने रुपए में ढ़ेर सारा घी आ जाता।

मैंने बोला, पिताजी ढ़ेर सारा यानी क्या? उदाहरण देकर समझाइये।

मेरी बात सुन पिताजी शांत रह गए।
बस चुपचाप छत पर आ गए।
ऊपर आकर वो शांति से बैठे, पानी पिया फिर बोले...

बेटा, ढ़ेर सारा यानि बहुत... उदाहरण देकर कहूँ तो हमारे समय में इतने रुपए में इतना घी आ जाता कि पूरा मोहल्ला एक एक कटोरी घी पी लेता।

मैं बोला... पिताजी, ये उदाहरण तो आप नीचे भी दे सकते थे?

बेटा, नीचे बहुत भीड़ थी और "भीड़ को उदाहरण समझ नही आता है।"

मैं बोला, पिताजी में समझा नही...
'भीड़ को उदाहरण' मतलब क्यों नही?

पिताजी बोले... एक बार मोदी जी ने कहा था कि विदेशों में हमारे देश का बहुत पैसा जमा है।

भीड़ ने कहा कि... कितना?

तो मोदी जी ने उदाहरण देकर समझाया की "इतना कि पूरा पैसा अगर वापस आ जाए तो सभी के हिस्से में 15 - 15 लाख आ जाए।"
बस सुनने वालों की भीड़ तभी से 15 लाख मांग रही है।

और ये उदाहरण अगर मैं नीचे देता तो हो सकता है कि कल कई लोग अपनी अपनी कटोरी लेकर घी मांगने आ जाते।

Author — जय श्री राम -दीपक

Author

भोसड़ी वाला हमद देखेंगे चिड़िया कांग्रेस 70 साल में कि कल जो नई कर ले चलो साले का उसको 2G घोटाला कोयला घोटाला और कौन-कौन घोटाला

Author — Raj Kamal Mandal

Author

एक ज्वलंत प्रश्न हमारे अपने देशवासियों से-?

वो धारा 370 नही हटवा पाया तो क्या, उन्हें वोट दे दूं जिन्होंने धारा 370 लागू की थी - ?
वो राम मंदिर नहीं बनवा पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं, जिन्होंने मंदिर तुड़वाकर मस्ज़िद बनवाई या उनका समर्थन करते हैं -?
वो मुसलमानों के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून नही बनवा पाया, तो क्या उन्हें वोट दे दूं जिन्होंने 1975-77 में जबरदस्ती पकड़-पकड़ कर हिन्दुओं की नसबंदी करवायी थी - ?
वो पाकिस्तान का खात्मा नहीं कर पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं जिन्होंने पाकिस्तान को जन्म दिया था - ?
वो गौ हत्या पूरी तरह बंद नहीं कर पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं जो कर्नाटक/केरल में बीच सड़क पर गाय काटकर खा गए थे - ?
वो काला धन विदेशों से नहीं ला पाया तो उन्हें वोट दे दूं जिन्होंने देश को लूट कर काला धन विदेशी बैंकों में जमा किये हैं-?
वह अभी तक स्मार्ट शहर नहीं बनवा पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं जो शहरों को बद से बद्तर बनाकर गये थे-?
वह काश्मीरी पंडितों को अभी तक पुनर्वास नहीं करा पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं जिन्होंने काश्मीरी पंडितों को रातों-रात मार काट कर भगा दिया - और तब उफ तक नहीं की-?

इस तरह बहुत सारे प्रश्न हैं - जो वो नहीं कर पाया तो क्या उन्हें वोट दे दूं जो कभी देश के आम जनता के समस्या को हल करने के लिए कभी सोचते भी नहीं थे-?
सिर्फ और सिर्फ अपने ऐशो आराम और घोटाले में व्यस्त थे-?

विचार, मनन, मंथन करें,
फिर निर्णय करें-

वन्देमातरम्,
जय मां भारती।

Author — जय श्री राम -दीपक

Author

सभी इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर बंधुओं
से अनुरोध है के वो कोई ऐसी
तकनीक विकसित करें जिससे
कुछ नेताओं को टीवी में हाथ डालकर
झापड़ मार सकें...!!😂😂

Author — Amit Ranjan

Author

Pura parivar apni caste ko bhi lekar confuse hae

Author — Ann Doesntmatter

Author

सभी कांग्रेसी कनफ्युज हैं तो देश को कंफ्युज नहीं करना चाहिए
देश कैसे चलेगा कंफुज्यड हो जाएगा

Author — TIME PASS WITH KD

Author

अच्छे दिन कब आयेंगे

बन्दरों का एक समूह था, जो फलो के बगिचों मे फल तोड़ कर खाया करते थे। माली की मार और डन्डे भी खाते थे, रोज पिटते थे ।

उनका एक सरदार भी था जो सभी बंदरो से ज्यादा समझदार था। एक दिन बन्दरों के कर्मठ और जुझारू सरदार ने सब बन्दरों से विचार-विमर्श कर निश्चय किया कि रोज माली के डन्डे खाने से बेहतर है कि यदि हम अपना फलों का बगीचा लगा लें तो इतने फल मिलेंगे की हर एक के हिस्से मे 15-15 फल आ सकते है, हमे फल खाने मे कोई रोक टोक भी नहीं होगी और हमारे *अच्छे दिन आ जाएंगे* ।

सभी बन्दरों को यह प्रस्ताव बहुत पसन्द आया । जोर शोर से गड्ढे खोद कर फलो के बीज बो दिये गये ।

पूरी रात बन्दरों ने बेसब्री से इन्तज़ार किया और सुबह देखा तो फलो के पौधे भी नहीं आये थे ! जिसे देखकर बंदर भड़क गए और सरदार को गरियाने लगे और नारे लगाने लगे, "कहा है हमारे 15-15 फल", *"क्या यही अच्छे दिन है?"*। सरदार ने इनकी मुर्खता पर अपना सिर पिट लिया और हाथ जोड़कर प्रार्थना करते हुए बोला, "भाईयो और बहनो, अभी तो हमने बीज बोया है, मुझे थोड़ा समय और दे दो, फल आने मे थोड़ा समय लगता है।" इस बार तो बंदर मान गए।

दो चार दिन बन्दरों ने और इन्तज़ार किया, परन्तु पौधे नहीं आये, अब मुर्ख बन्दरों से नही रहा गया तो उन्होंने मिट्टी हटाई - देखा फलो के बीज जैसे के तैसे मिले ।
बन्दरों ने कहा - सरदार फेकु है, झूठ बोलते हैं । हमारे कभी अच्छे दिन नही आने वाले । हमारी किस्मत में तो माली के डन्डे ही लिखे हैं और बन्दरों ने सभी गड्ढे खोद कर फलो के बीज निकाल निकाल कर फेंक दिये । पुन: अपने भोजन के लिये माली की मार और डन्डे खाने लगे ।

- जरा सोचना कहीं आप बन्दरों वाली हरकत तो नहीं कर रहे हो?

60 वर्ष

एक परिपक्व समाज का उदाहरण पेश करिये बन्दरों जैसी हरकत मत करिये...
देश धीरे धीरे बदल रहा है नई नई ऊंचाइयां छू रहा है, जो भी जोखिम भरे कदम बहुत पहले ले लेने चाहिए थे, वह अब लिये जा रहे हें आवश्यकता है तो सिर्फ और सिर्फ साथ की क्योंकि बहुत बड़े बड़े काम होने अभी बांकी हैं, धीरज रखिए ।

वन्देमातरम । जय हिंद ..

Author — जय श्री राम -दीपक

Author

पपपु तु तो गयो अब मक यकीन हुई गयो कि फिर मामा की सरकार बणेगी, अरु असोज करो भई तव तो सीट बडग भई

Author — Dinesh Patidar

Author

*RBI गवर्नर रहे Y.V रेड्डी की पुस्तक ADVISE AND DECENT से साभार*

कांग्रेस के शाशन काल में सिर्फ 40 करोड़ रुपए के लिए हमे अपना 47 टन सोना गिरवी रखना पड़ा था.

ये स्थिति थी भारतीय इकॉनमी की.

मुझे याद है नब्बे के शुरुआती दशक में भारतीय अर्थव्यवस्था को वो दिन भी देखना पड़ा जब भारत जैसे देश को भी अपना सोना विश्व बैंक में गिरवी रखना पड़ा था

राजीव गान्धी के शासन का में देश की तिजोरी खाली हो चुकी थी.

और तभी प्रधान मंत्री राजीव गाँधी की हत्या लिट्टे के आतंकियों ने कर दी थी..

चन्द्रशेखर तब नए नए प्रधान मंत्री बने थे....तिजोरि खाली थी. वे घबरा गए. करें तो क्या करें.

Reddy लिखते हैं कि पुरे देश में एक तरह का निराशा भरा माहौल था ..राजीव शासनकाल ने कोई रोज़गार नहीं दिया था.

नया उद्योग धन्धा नहीं ....एक बिजनेस डालने जाओ तो पचास जगह से NOC लेकर आना पड़ता था .

कांग्रेस द्वारा स्थापीत लाइसेंस परमिट के उस दौर में चारो तरफ बेरोज़गारी और हताशा का अलाम

दूसरी तरफ देश में मंडल और कमंडल की लड़ाई छेड़ी हुई थी

अस्सी से नब्बे के दशक तक देश में कांग्रेस ने Economy को ख़त्म कर दिया था दौरान बोफोर्स तोपों में दलाली का मामला सामने आया

किताब में Reddy लिखते हैं कि गाँधी परिवार की अथाह लूट ने देश की अर्थ व्यवस्था को रसातल में पंहुचा दिया.

Reddy अपनी किताब में लिखते हैं कि उन दिनों भारत का विदेशी मुद्रा भंडार इतना कम हो गया था कि रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने अपना सोना विश्व बैंको में गिरवी रखने का फैसला किया ... हालात ये हो गए थे कि देश के पास तब केवल 15 दिनों का आयात करने लायक ही पैसा था.

स्थिती कितनी भयानक थी इसका अंदाजा आप इस बात से लगा लीजिये की भारत के पास तब केवल 1.1 अरब डालर का ही विदेशी मुद्रा भंडार बचा हुआ था .

तब तत्कालीन प्रधान मंत्री चन्द्रशेखर के आदेश से भारत ने 47 टन सोना बैंक ऑफ़ इंग्लैंड
में गिरवी रखा था

RBI Governor Reddy लिखते हैं कि उस समय भी एक दिलचस्प और भारतीय जनमानस को शर्म सार करने वाली घटना घटी

हुआ यह कि RBI को बैंक ऑफ़ इंग्लैंड में 47 टन सोना पहुचना था. ये वो दौर था जब मोबाइल तो होते नहीं थे और लैंड लाइन भी सिमित मात्रा में हुआ करती थी.

RBI Ex Governor Reddy अपनी किताब में लिखते हैं कि नयी दिल्ली स्थित RBI का इतना बुरा हाल था की बिल्डिंग से 47 टन सोना नयी दिल्ली एयर पोर्ट पर एक वैन द्वारा पहुंचाया जाना था . वहां से ये सोना इंग्लैंड जाने वाले जहाज पर लादा जाना था .

लेकिन नब्बे के दशक में भारतीय प्रशासनिक व्यवस्था और RBI कितनी लचर स्थिति में थी, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 47 टन सोना लेकर एक बेहद पुरानी RBI की निजि वैन महज़ 2 सुरक्षा गार्ड्स के साथ एयर पोर्ट पर भेजी गयी थी उसके दो टायर आधे रास्ते में ही पंचर हो गए .

टायर पंचर होते ही उन 2 सुरक्षा गार्ड्स ने उस 47 टन सोने से भरी वैन को घेर लिया .

खेर बड़ी मशक्कत के बाद ये 47 टन सोना इंग्लैंड पहुचा और ब्रिटेन ने भारत को 40.05 करोड़ रुपये कर्ज़ दिये .

इस घटना का वर्णन तबके RBI गवर्नर रहे Y.V रेड्डी ने अपनी पुस्तक ADVISE AND DECENT में किया है


भारतीय अर्थ व्यवस्था से जुडी इस पुरानी मन को दुखी करने वाली घटना का उदाहरण मैंने इस लिए दिया ताकि लोगों को पता चले कि कांग्रेस के जो बेशर्म नेता मोदी के ऊपर देश की अर्थ व्यवस्था चौपट करने का इल्जाम लगाते हैं, उस महान गाँधी परिवार की अय्याशी की वजह से ही देश को अपना सोना महज़ 40 करोड़ का कर्ज पाने के लिए गिरवी रखना पड़ा था .

किसी देश के लिए इससे ज्यादा अपमान और शर्म की बात क्या हो सकती है .

मुझे बेहद हँसी, हैरानी और गुस्सा आता है जब देश को महज़ 40 करोड़ रुपये के लिए गिरवी रखने वाले लोग कहते हैं कि मोदी ने भारत की अर्थ व्यवस्था को बर्बाद कर दिया .

All links are available on Google to corroborate all facts. Please google .

श्री प्रकाश बियाणी जी(स्टेट बैंक के पूर्व राजभाषा अधिकारी एवं दैनिक भास्कर, दिव्य भास्कर आदि समाचार पत्रों के नियमित लेखक) की कलम से .

*हिंदुस्तान के 70 साल के इतिहास में, सिर्फ 3 साल ऐसे हैं, जिसमे हिंदुस्तान ने वर्ल्ड बैंक से एक रुपये का भी कर्ज नही लिया।*

*और वो तीन साल हैं.

2015-16

2016-17

2017-18

*और हा ये तीनों साल चायवाले की सरकार में आते हैं, ।*

Author — जय श्री राम -दीपक

Author

rahul ka janm bhi confuejan se huwa hai

Author — Dinesh Badgujar

Author

Rajiv tagi pagla Gaye har debet me 1 hi Batt Bolte rahta hi

Author — Biswajit Mandal

Author

Nehru Gandhi chor Indira Gandhi chor Rajiv Gandhi chor Congress neta chor

Author — Suman Halder

Author

प्रधानमंत्री कंफ्यूज नहीं है कंफ्यूज राहुल कांग्रेस समाजवादी पार्टी बहुजन समाज पार्टी की अनमोल कांग्रेस इस सब कंफ्यूजन जानता है कि पत्ता साफ होने वाला है

Author — Raj Kamal Mandal

Author

congress party ka naam confusion party rakhna chahiye

Author — R k ROUT

Author

Aise pagal confuses neta Rahul Gandhi, ish ka dimag mein Gobbar hay . Gadha hay Rahul . Iye agar PM banjayee to desh hojayaga ram naam satya hay 😂😂😂😂

Author — Saroj Kumar Parida

Author

*कुछ समय से भाई लोग हमसे सवाल पूछते हे*
*आज हम उनसे सवाल पूछते हे*
*1* चार शहरों के नाम बताओ जो 2014 से पहेले स्मार्ट सिटी थे ?

*2* 2014 से पहेले सांसदो के गोद लिए हुए चार गांवों के नाम बताओ जो आदर्श गांव बने ?

*3* 2014 से पहेले के चार जिलों के नाम बताओ जहां हर घर में शौचालय है ?

*4* 2014 तक के चार जिलों के नाम बताओ जहां आज की तरह आधुनिक अस्पताल थे ?

*5* 214 तक के चार राज्यों के नाम बताआे जहां एक हजार कि.मी. तक सड़क बनती थी और अब नही बनी हो ?

*6* चार बैंक शाखाओं के नाम बताओ जहां कांग्रेस सरकार ने उस बैक के अधीन हर शहर वासी का खाता खोला हुआ था ?

*7* चार देशों के नाम बताओ जहां 2014 से पहेले भारत में शुद्ध निवेश हो रहा था ?

*8* कांग्रेस के समय के 2014 से पहले चार ऐसे सेक्टर बताओ जहां एक लाख नौकरियां दी गई हो ?

*9* कांग्रेस सरकार के समय के चार प्रदेश बताओ जहां बीजली उत्पादन के नए संयन्त्र लगे हुए थे ?

*10* अभी तक भी चार ऐसे कांग्रेसी मंत्रियों के नाम बताओ जिनके बच्चे सरकारी स्कुल में पड़ते हों ?

*11* चार एेसे शहरों के नाम बताओ जो कांग्रेस के कार्यकाल में अभी से ज्यादा स्वच्छ थे ?

*12* चार ऐसे राज्य बताओ जहां कांग्रेस के समय मे किसान आत्महत्या नही करते थे ओर अब कर रहे हैं ?

*13* चार कि.मी. का ऐसा क्षेत्र बताओ जो कांग्रेस राज में साफ था और अब बीजेपी राज में गन्दा हुआ है ??

*14* चार ऐसे कांग्रेसियो के नाम बताओ जिनका स्विस बैंक में काला धन जमा नही हो ??

*15* चार ऐसे कांग्रेसी नेताओं के नाम बताओ जिनका नाम घोटाले बाजों में नही आ रहा हो ?

*16* कांग्रेस राज के चार ऐसे राज्यों के नाम बताओ जिनके सारे गावों में बिजली पहुंच गई थी ?

*17* चार जिलों के नाम बताओ जिनमें नई सिंचाई योजनाओं का निर्माण शुरू था और मोदी सरकार ने बन्द कर दिया हो किया ?

*18* कांग्रेस राज के चार ऐसे अस्पतालों के नाम बताओ जहां सम्पूर्ण डॉक्टर और सुविधाये उपलब्ध थी ?

*19* चार ऐसे विभाग बताओ जहां भ्रष्टाचार नही था कांग्रेस राज में ?

*20* चार ऐसे कांग्रेसी सांसदों या विधायको के नाम बताओ जिनमें कोई कांग्रेसी नेता दागी नहीं था ?

*21* चार शहरों के नाम बताओ जहां कांग्रेसी राज में महिलाऐं सुरक्षित हैं ?

*22* कांग्रेसी राज के चार ऐसे हप्तों के नाम बताओ जब आतंक की कोई घटना नहीं हुई थी ?

*23* कांग्रेसी राज के समय के चार ऐसे महीने बताओ जब बलात्कार की कोई घटना नही हुई थी ?

*24* कांग्रेस के समय के चार ऐसे राज्य बताओ जहां हिंदुओं का उत्पीडन नहीं हुआ हो ?

*25* कांग्रेस के समय मे ऐसी चार महिलाओं के नाम बताओ जिनको शून्य रुपये में रसोई गैस दी गई थी ?

*26* कांग्रेस के शासन में चार ऐसी खाद्य सामग्री के नाम बतायें जिनकी कीमत नही बढी थी ?

*27* कांग्रेस के राज में चार ऐसे राज्यों के नाम बताओ जहां एक भी नई हवाई पट्टी बनी ?

*28* चार ऐसे डिफॉल्टरों के नाम बताइये जिनको मोदी सरकार ने पैसा दिया हो और लेकर भाग गए हो ??

*29* चार खरब पती जो सरकारी सम्पति लूट रहे थे और उनका सम्बन्ध कांग्रेस से नही था ?? ऐसे खरबपतियों के नाम बताओ???

*30* चार कांग्रेसी ऐसे नेताओं के नाम बताओ जो नोटीबंदी के समय लाइन में लगा हो ?

*31* चार ऐसे ATM बताऐं जहां मोदी राज में हर समय पैसा नही रहता हो ???

*32*कांग्रेस के समय की चार ऐसी तारीखें बतायें जब सीमा पर गोली बारी न हुई थी ?

*33* कांग्रेस के चार ऐसे प्रवक्ताओं के नाम बताऐं जो आज हिन्दू हिंदू नही चिल्लाता हो ?

*34* कांग्रेस के समय संसद के चार ऐसे सत्र बतायें जिनमें लगातार कामकाज हुवा हो ?

*35* चार केन्द्रीय मंत्रियों के नाम बतायें जो कांग्रेस राज में अपने मंत्रालय के फैसले खुद लेते थे ?

*36* कांग्रेस राज के चार उत्पादन क्षेत्रों के नाम बताऐं जिनमें निर्यात बढा हो/था ?

*38* कांग्रेस की चार ऐसी विधान सभाओं के चुनाव प्रचार जहां कांग्रेसीमंत्री न भेजे गऐ हों ?

*39* चार ऐसे दिन बताऐं जब कांग्रेसी प्रधानमंत्री अपनी मर्जी से बोला हो ?

*40* मोनी बाबा के चार ऐसे भाषण बतायें जिन में दस से कम शब्द कांग्रेस के लिए नही बोले गये हों ?

*41* मोनी बाबा की चार विदेश यात्रायें जिसमें देश का 1 करोड से कम खर्च हुआ हो ?

*42* बाबा/बारबाला/पप्पु किसी की भी चार ऐसी चुनावी रेलियां बताये जिनमें करोड़ो न खर्च हुवा हो ?

*43* कांग्रेस राज में पैट्रोल डीजल से हर महीने होने वाली आय दो लाख तीस हजार करोड कहां जा रही थी ?

*44* मात्र दो साल में 40 लाख से बढ़कर 4अरब रुपये जीजाजी की सम्पति कहा से आई ?

*कृपया सभी सभी सवालों के जबाब 2018 में ही देने का कष्ट करें ? सही उत्तर ना देने पर भारतवर्ष के प्रबुद्ध मतदाता आप को 2019 में 2014 की तरह फिर से फेल कर देंगे जिसके जिम्मेदार आप स्वयम होंगे! हर प्रश्न में माइनस मार्किंग है!*

Author — जय श्री राम -दीपक

Author

70salo me kitne ache din aaye or 70 salo me kitni smart city thi... cngress ne kvi 14 se phle smart city k bare me suna v tha kya...inhe to kewl des ko lootne se mtlv tha....?

Author — pitaji pitaji

Author

Rajeev tyagi pagal panthi bate karte h ...faltu bate bolte h

Author — Amit Tiwari

Author

राजीव त्यागी अगर तुम लोग कन्फीउज हो तो भाड़ में जाओ हमारे बीच में नहीं।

Author — prahlad sharma

  • Home  
  • History